यह पु×तक इस शतµपर ȱवþय कɡ जा रही हैȱक Ēकाशक कɡ ȳलȶखत पूवाµनुमȱत के ȱबना इसेया इसके ȱकसी भी ȱह×सेको न तो पुन: Ēकाȳशत ȱकया
जा सकता हैऔर न ही ȱकसी भी अÊय तरीक़ेस,े ȱकसी भी ƞप मƶइसका ȅावसाȱयक उपयोग ȱकया जा सकता ह।ै यȰद कोई ȅȳǣ ऐसा करता हैतो
उसके ȱवƝǽ कानूनी कारµवाई कɡ जाएगी।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Muskil Daur mein aage badne ka 7 ta...”

Your email address will not be published.

Login

Lost your password?

Create an account?

Cart

Your cart is currently empty.